देश भक्ति शायरी, Desh bhakti shayari hindi me

देश भक्ति शायरी,  desh bhakti shayari hindi me

 Kuchh nasha Tirange ki aaan ka hain,
Kuch nasha Matrbhumi ki shaan ka hai
Hum lahrayenge har jagah ye Tiranga
Nasha ye Hindustan ki shaan ka hain..!!


Ye bat hawao ko bataye rakhna
Roshni hogi chirago ko jalaye rakna
Lahu dekr jiski hifazat hamne
aise Tirange ko sada dil me basaye rakhna.

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई ,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता ,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई ,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता

ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई ,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता ,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई ,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता

Naa Poochho Jamane Ko, Kya Hamari Kahani Hain,
Hamari Pehchaan To Sirf Ye Hai Ki Hum Sirf Hindustani Hain.
Halki si dhup barsat k baad,
thori si khushi hr baat k baad,
Isi tarh mubark ho ap ko,
Azadi ki harr raat aj k baad!….
Wish u a very happy Independence Day

मैं भारत बरस का हरदम सम्मान करता हूँ,
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हुँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ.

Tiranga Hai Aan Meri,
Tiranga Hi Hai Shaan Meri,
Tiranga Rahe Ooncha Sada Hamaara,
Tirange Se Hai Dharti Mahaan Meri!

No comments:

Post a Comment