Type Here to Get Search Results !

Shayaricafe.com All Posts

Rahat Indori Shayari in Hindi Font

**************************
​Rahat Indori Shayari in Hindi Font

कभी अकेले में मिल...
​कभी अकेले में मिल कर झंझोड़ दूंगा उसे​;
जहाँ​-​जहाँ से वो टूटा है​ ​जोड़ दूंगा उसे;​​
​​​ ​मुझे छोड़ गया ​ ​ये कमाल है​ ​उस का​;
​इरादा मैंने किया था के छोड़ दूंगा उसे​;
​पसीने बांटता फिरता है हर तरफ सूरज​;
​कभी जो हाथ लगा तो निचोड़ दूंगा उसे​;
​ ​मज़ा चखा के ही माना हूँ ​मैं भी दुनिया को​;
​समझ रही थी के ऐसे ही ​छोड़ दूंगा उसे​;
​ ​बचा के रखता है​ खुद को वो मुझ से शीशाबदन​;​
उसे ये डर है के तोड़​-​फोड़ दूंगा उसे​।
~ Rahat Indori

लोग हर मोड़ पे...
लोग हर मोड़ पे रुक-रुक के संभलते क्यों हैं;
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं;
मैं न जुगनू हूँ, दिया हूँ न कोई तारा हूँ;
रोशनी वाले मेरे नाम से जलते क्यों हैं;
नींद से मेरा त'अल्लुक़ ही नहीं बरसों से;
ख्वाब आ आ के मेरी छत पे टहलते क्यों हैं;
मोड़ होता है जवानी का संभलने के लिए;
और सब लोग यहीं आके फिसलते क्यों हैं।
~ Rahat Indori
ये पोस्ट के इसके अलावा girlfriend / Wife / Boyfriend / Husband / Dosti पर shayari या को मानाने या तारीफ के लिए हिंदी में शायरी ,urdu में शायरी, Best Two Line /4 Line shayari collection ever ,व्हात्सप्प स्टेटस shayari, shayri sangrah मिलेगा जिसे आप सब whatsapp status InstaGram और facebook status पे share कर सकते है

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.