Type Here to Get Search Results !

Shayaricafe.com All Posts

Shayari By Bahadur Shah Zafar in Hindi Font

**************************

तुम न आये एक दिन...

तुम न आये एक दिन का वादा कर दो दिन तलक;
हम पड़े तड़पा किये दो-दो पहर दो दिन तलक;

दर्द-ए-दिल अपना सुनाता हूँ कभी जो एक दिन;
रहता है उस नाज़नीं को दर्द-ए-सर दो दिन तलक;

देखते हैं ख़्वाब में जिस दिन किस की चश्म-ए-मस्त;
रहते हैं हम दो जहाँ से बेख़बर दो दिन तलक;

गर यक़ीं हो ये हमें आयेगा तू दो दिन के बाद;
तो जियें हम और इस उम्मीद पर दो दिन तलक;

क्या सबब क्या वास्ता क्या काम था बतलाइये;
घर से जो निकले न अपने तुम "ज़फ़र" दो दिन तलक।
~ Bahadur Shah Zafar

ये पोस्ट के इसके अलावा girlfriend / Wife / Boyfriend / Husband / Dosti पर shayari या को मानाने या तारीफ के लिए हिंदी में शायरी ,urdu में शायरी, Best Two Line /4 Line shayari collection ever ,व्हात्सप्प स्टेटस shayari, shayri sangrah मिलेगा जिसे आप सब whatsapp status InstaGram और facebook status पे share कर सकते है

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.