Type Here to Get Search Results !

Shayaricafe.com All Posts

Geet naya gata hoon!! Poem गीत नही गाता हुँ - Atal Bihari Vajpayee Poem

**************************

Geet naya gata hoon!! गीत नही गाता हुँ - Atal Bihari Vajpayee Poem


टूटे हुए तारों से फूटे वासन्ती स्वर,
पत्थर की छाती में उग आया नव अंकुर,

झरे सब पीले पात,
कोयल की कुहुक रात,

प्राची में अरुणिमा की रेख देख पाता हूँ

गीत नया गाता हूँ

टूटे हुए सपने की सुने कौन सिसकी?
अन्तर को चीर व्यथा पलकों पर ठिठकी

हार नहीं मानूँगा,
रार नई ठानूँगा,

काल के कपाल पर लिखता-मिटाता हूँ
गीत नया गाता हूँ
toote hue taron se phoote vaasanthi svar,
patthar ki chaati me ug aayaa nav ankur,

jhare sab pile paath,
koyal ki kahak raat,

praachi me arunima ki rekh dekh paathaa hun,

geeth naya gaatha hun,

toote hue sapno ki sune kaun siski,
antar ko cheer vyatha palakon par titki,

haar nahi mangonga,
raar nahi tthanoonga,

kaal ke kapal par likhata-mitatha hun
geeth naya gaatha hun
ये पोस्ट के इसके अलावा girlfriend / Wife / Boyfriend / Husband / Dosti पर shayari या को मानाने या तारीफ के लिए हिंदी में शायरी ,urdu में शायरी, Best Two Line /4 Line shayari collection ever ,व्हात्सप्प स्टेटस shayari, shayri sangrah मिलेगा जिसे आप सब whatsapp status InstaGram और facebook status पे share कर सकते है

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.